Monday, 14 November 2011

फुर्सत


फुर्सत
फुर्सत वहां  होती है जहाँ पीछे का गुज़र गया हो
और आगे की तुम्हे चिंता न हो

फुर्सत मुझे बड़ी मुद्दत से मिली

फुर्सत न चाहो तो कभी नहीं मिलेगी
और चाहो तो हर पल फुर्सत है

इतना फैलाओ ही ना की समेट ना पो
चाहो तो हर पल फुर्सत है

No comments:

Post a Comment