Tuesday, 15 November 2011

आदत ही मौत है


आदतन  ही हम कुछ बोल देते हैं
और फिर पछताते हैं
आदतन ही हम लड़ लेते हैं
और फिर उन्हें भूलने की कोशिश में लगे रहते हैं
आदतन ही हम किसी को नापसंद करते रहते हैं
और शिकायत करते हैं की मुझे शांति चाहिए
आदतन ही हम दिनों साल गुज़ार देते हैं
और फिर मरने की घडी टालते रहते हैं
इस आदत को ख़त्म  कर दो
कोई चीज़ आदत ना  रहे
आदत ही मौत है
आदत का होना ही इंसान की मौत है


No comments:

Post a Comment