Tuesday, 6 December 2011


घडी की सुइयां जैसे चिढाती हैं
हम भाग रहे हैं, तू कहाँ ठहरी है
हम जाग रहे हैं, तू कहाँ सोती है
हम अटखेलियाँ करते हैं तू किस कौने में बैठी शौक मानती है

गुस्से में मैं घडी के cell निकाल देती हूँ
फिर ना वो चलती है ना  मैं
फिर ना वो शोर करती है ना  मैं

No comments:

Post a Comment

Listen To Your Stories

Listen to your heart Listen to your stories Create stories, Have kids, aren't kids great stories? What's your story? Each one...