Tuesday, 6 December 2011

"अब से" 6 dec 2011


ऐसे जीओ की शोर हो
ऐसे जीओ की बातें बनें
ऐसे जीओ की किस्से उडें

चुप्पी में क्या रखा है- चुप्पी के अलावा
अलगाव में क्या रखा है-अलगाव के अलावा
बेबसी में क्या रखा है- बेबसी के अलावा

खबर आये की तुम आते हो, तो चर्चे चलें
वक्त हुए और तुम जाओ तो फिर चर्चे चलें
तुम्हारा नाम चर्चों में शामिल हो, ऐसे जियो

शोर करो, ठहाके लगाओ
शौक मनाने की धज्जियां उड़ाते चलो
धुल उड़ाते चलो, शोर मचाते चलो

No comments:

Post a Comment